@.बीजेपी के गढ़ में आखिर वोटिंग कम क्यों हुई…. ★उत्तराखंड में 2019 की अपेक्षा कम मतदान होने से बढ़ी राजनीतिक कसमकश…. ★. कांग्रेस विधायक वाली सीटों पर जमकर हुआ मतदान…..

524

@.बीजेपी के गढ़ में आखिर वोटिंग कम क्यों हुई….

★उत्तराखंड में 2019 की अपेक्षा कम मतदान होने से बढ़ी राजनीतिक कसमकश….

★. कांग्रेस विधायक वाली सीटों पर जमकर हुआ मतदान…..

रिपोर्ट (चन्दन सिंह बिष्ट) “स्टार खबर”

उत्तराखंड में 2019 की अपेक्षा कम मतदान होने से राजनीतिक कसमकश बढ़ा गई है। राज्य में प्रथम चरण में हुए लोकसभा चुनाव में मतदान प्रतिशत कुल 55.89 प्रतिशत ही रहा। जिससे जानकार मानते हैं कि जीत हार का अंतर भी कम रहेगा। वहीं हरिद्वार में बीजेपी की पकड़ वाली सीटों में कम मतदान से पार्टी के रणनीतिकार हैरान हैं, जबकि कांग्रेसी विधायक वाली सीटों पर जबरदस्त उत्साह के साथ मतदान हुआ है। जिस सीटों में बीजेपी ने लीड के सपने संजोए थे, उन्हीं सीटों पर कम मतदान हुआ है। इससे बीजेपी के वोटों पर असर पड़ सकता है। राजनीतिक जानकार मान रहे हैं कि अब मुकाबला कड़ा हो गया है। दलित वोट बंटा है, जबकिं मुस्लिम वोटरों ने एकतरफा वोट किया है।

बता दें कि 2019 की अपेक्षा देहात की कुछ सीटों पर जरूर कम वोटिंग है, इसे कांग्रेस अपने लिए मुफीद बता रही है। वर्ष 2019 के आमचुनाव में बीजेपी ने सात सीटों से 2.62 लाख की लीड ली थी। उस समय इन सीटों पर अच्छा मतदान हुआ था। इस बार वोटिंग प्रतिशत की तस्वीर बदली है। 2019 में सबसे बड़ी लीड, बीजेपी ने ऋषिकेश से 63219 वोटों की लीड ली थी। तब ऋषिकेश में 60.31 फीसदी मतदान हुआ था। जो अब 51.30 फीसदी हुआ है।

वहीं डोईवाला से 52228 वोट की लीड और 65.17 फीसदी मतदान हुआ था। इस बार 57.20 फीसदी ही हुआ। इधर धर्मपुर से 36436 वोट और हरिद्वार शहर से 43270 की लीड मिली थी। शहर में तब 62.05 मतदान था, जो अब घटकर 54% हो गया है। रानीपुर क्षेत्र में हुए 68.02 फीसदी मतदान में भाजपा को 31906 की लीड मिली थी। बीजेपी को सात सीटों से 2 लाख 62 हजार 784 वोटों की लीड मिली थी।

★. कांग्रेस विधायक वाली सीटों पर जमकर हुआ मतदान

हरिद्वार की जिन सीटों पर वर्तमान में कांग्रेस के विधायक है। उन सीटों पर शहर की सीटों की अपेक्षा अच्छा मतदान हुआ। हालांकि पिछली 2019 के चुनाव की अपेक्षा कुछ सीटों में भी कम मतदान हुआ है। जो कांग्रेस के लिए दिक्कतें पैदा कर सकता है। हरिद्वार ग्रामीण में 73.21 फीसदी मतदान हुआ। पिछले विधानसभा चुनाव में 69.25 फीसदी मतदान हुआ था। 2019 की लोकसभा में 77% मतदान हुआ था। कलियर में 69.37 हुआ था, इस बार कलियर में 70.01% ही मतदान हुआ है। झबरेड़ा में 69 फीसदी के मुकाबले 67.00 फीसदी हुआ है। इधर भगवानपुर में 71.20 फीसदी से 69.58 फीसदी पहुंच सका है।