जब डीएम बेटा बनकर पहुंच गया अपने गांव…तो गुड़ के कटक वाली चाय लेकर पहुंच गयी चाची….घर के आंगन में ऐसी लगी चौपाल की हर कोई हो गया मुरीद..सफलता का मूलमंत्र और गांव की समस्या खत्म करने का दिया जाते वक्त रिटर्न गिफ्ट

1918

नैनीताल – कहते हैं कि कितने भी बड़े औदे पर बैठ जाएं लेकिन अपनी जमीन और गांव से लगाव दिल में बसा रहता है…ऐसा ही दिखा जब चम्पावत के डीएम अपने गाव पहुंचे..जहां लोगों ने स्वागत तो एक डीएम के तौर पर किया लेकिन ये डीएम अपने चाचा चाची और बड़े बुजुर्गों के सामने गांव का बच्चा बनकर ही बैठा रहा..हांलाकि इस दौरान ग्रामीणों ने उनसे दिल की बात भी अपने बच्चे के तौर पर ही कही लेकिन डीएम साहब ने उनको सब कुछ ओके करने का भरोषा भी दिया…

रिपोर्ट (चन्दन सिंह बिष्ट) “स्टार खबर” नैनीताल

दरअसल आईएएस बनने के बाद पहली बार अपने पैतृक गांव पहुंचे चंपावत के जिलाधिकारी नवनीत पांडे अपने गांव पहुंचे..गांव के लोगों को सूचना मिली ही थी तो तैयारी पूरे गांव ने कर दी..इस दौरान ग्रामीणों ने कई व्यवस्थाएं की तो इंतजार अपने गांव के लड़के का था..स्वागत की तैयारियों के बीच डीएम चम्पावत अपने गांव पहुंच गये और ग्रांव के लोगों ने जोरदार स्वागत भी कर दिया। आम आदमी की तरह डीएम चम्पावत नवनीत पांड़े लोगों से ऐसे मिले कि वो सालों बाद नहीं बल्कि यहीं रहते हों। इस दौरान घर के आंगन में बैठक चौपाल में लोगों से बातचीत करते रहे तो उनकी समस्याओं को भी सुनते रहे गांव की यादों को अपने दिल में संजोते रहे।

“स्टार खबर” से बात करते हुए नवनीत पांडे ने कहा कि आज वो अपने गांव के इस प्रेम के साथ माता पिताजी के आशिर्वाद से यहां तक पहुंच गये उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति एक ही प्रयास में सफल नहीं हो सकता उसे निरंतर प्रयास जारी रखना होगा.. डीएम ने कहा कि असफल तभी होता है जब वह प्रयास करना बंद कर देता है

इस दौरान ग्राम प्रधान कमल किशोर पांडे ने कहा कि गांव की मिट्टी से निकालकर उच्च पदों पर रहकर देश की सेवा करते हुए नवनीत पांडे अपने उत्तराखंड का नाम रोशन कर रहे हैं चम्पावत के जिलाधिकारी बनने पर गांव में खुशी की लहर है वहीं उन्होंने कहा कि चंपावत से लेकर देहरादून तक नवनीत पांडे उच्च पदों में रहकर ढोलीगांव की जन्मभूमि को वो नहीं भूले ।

वहीं पूर्व प्रधान गिरीश सिंह सिंग्वाल ने कहा कि प्रतिभा किसी के परिचय की मोहताज नहीं होती लक्ष्य बनाकर ईमानदारी से मेहनत करने से निश्चित तौर पर सफलता मिलती है । ग्रामीणों ने नवनीत पांडे खालबाजार में में फूल मालाओं के साथ स्वागत किया ‌उसके बाद क्या अधिकारी चंपावत अपने पैतृक घर के लिए रवाना हुए घर में उन्होंने अपनी चाचा दीप पाण्डेय और चाची एवं परिवारजनों से मुलाकात की और घर में गुड़ के साथ चाय पी,, अक्टूबर-नवंबर में परिवार जन के साथ आने की भी बात कही ।और इस अवसर पर ग्राम प्रधान ढोलीगांव कमल किशोर पांडे , पूर्व प्रधान रिखोली गिरीश  सिंग्वाल, पजैना प्रधान प्रतिनिधि हरीश बिष्ट, पूर्व मंडी चेयरमैन हल्द्वानी दिनेश पांडेय  पूर्व प्रधान दिनेश बिष्ट,युवराज सिंह बिष्ट , कमल बिष्ट , राजेंद्र फर्त्याल , राजेंद्र गहरवाल , योगेश पाण्डेय ,तारा दत्त जोशी बलवंत सिंह बिष्ट किशोर गहरवाल पुष्कर सिंह सिंग्वाल प्रेम सिंह सिंग्वाल साहित कई ग्रामीण मौजूद रहे ।

★. 2015 बैच के अफसर.★

आईएएस नवनीत पांडे का जन्‍म उत्‍तराखंड के ढोलीगांव नैनीताल में हुआ है .उनके पूर्वज नैनीताल के ढोलीगांव से ही गए हैं. बताया गया कि नवनीत पांडेय के परिवार के लोग भी शीर्ष पदों पर रह चुके हैं. नवनीत को उन्‍हीं से प्रेरणा मिली. नवनीत पांडे साल 2015 बैच के अफसर हैं. बीते साल ही नवनीत पांडे को पीसीएस अफसर के पद से पदोन्‍नत कर आईएएस बनाया गया ।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री धामी ने अपना अपर सचिव भी बनाया था इससे पहले नवनीत पांडे अल्‍मोड़ा के सीडीओ रह चुके हैं. वहीं, टनकपुर में वह एसडीएम भी रह चुके हैं. टनकपुर में रहते हुए नवनीत पांडे ने पूर्णागिरि मेले को सकुशल कराया था. नवनीत पांडे की ईमानदारी एवं कार्य के प्रति समर्पण का भाव देखते हुए धामी सरकार ने उन्‍हें अपना अपर सचिव भी बनाया था. अब चंपावत को मॉडल के रूप में विकसित करेंगे.