@ नैनीताल 20 सितंबर से 121 वां 8 दिवसीय नंदा देवी महोत्सव का आयोजन… ★पहली बार शहर से कदली वृक्ष लाया जाएगा… ★स्थानीय निवासियों और बच्चों द्वारा झांकी का आयोजन… ★रिपोर्ट- (सुनील भारती ) “स्टार खबर ” नैनीताल….

70

@ नैनीताल 20 सितंबर से 121 वां 8 दिवसीय नंदा देवी महोत्सव का आयोजन…

★पहली बार शहर से कदली वृक्ष लाया जाएगा…

★स्थानीय निवासियों और बच्चों द्वारा झांकी का आयोजन…

★रिपोर्ट- (सुनील भारती ) “स्टार खबर ” नैनीताल….

नैनीताल – श्री राम सेवक सभा द्वारा इस बार 121 वा 8 दिवसीय श्री नंदा देवी महोत्सव की तैयारी जोर-शोर के साथ चल रही है।

महासचिव जगदीश बवाड़ी ने पत्रकार वार्ता के दौरान बताया कि 20 सितंबर को विधिवत तरीके से श्री नंद देवी महोत्सव का उद्घाटन किया जाएगा, इसके बाद श्रद्धालु कदली वृक्ष लेने के लिए हल्द्वानी की ओर प्रस्थान करेंगे ।बता दें अभी तक कदली वृक्ष हमेशा ग्रामीण क्षेत्र से ही लाया जाता था पहली बार ऐसा हुआ है कि कदली वृक्ष हल्द्वानी शहर की चंद्रावती कॉलोनी बड़ी मुखानी से नैनीताल को लाया जाएगा ।इस दौरान हल्द्वानी जहां से कदली वृक्ष लाया जाना है वहां पर आयोजकों द्वारा भव्य तैयारियां कर ली गई है। सभी क्षेत्र वासियों के लिए सूचनार्थ पर्चे छपवाकर शहर में बांटे जाएंगे , जिससे इस बार का आयोजन भव्य और यादगार बन जाए क्योंकि हल्द्वानी में पहाड़ की संस्कृति को मानने वाले पहाड़ी लोगों की संख्या बहुत ज्यादा है, इसलिए इस बार यहाँ के लोगों में इसके लिए बहुत उत्साह है । कदली वृक्ष के नैनीताल पहुंचने पर सूखाताल में श्रद्धालुओं द्वारा भव्य आयोजन किया जाएगा। इसके बाद कदली वृक्ष को तल्लीताल वैष्णो देवी मंदिर में पूजा अर्चना के लिए ले जाया जाएगा ।इस दौरान स्कूली बच्चों वह स्थानीय महिलाओं द्वारा झांकियां के साथ कदली वृक्ष के नैनीताल में भ्रमण कराया जाएगा। शाम के वक्त मल्लीताल नैना देवी मंदिर में कदली वृक्ष की पूजा अर्चना की जाएगी। 22 सितंबर को रामसेवक सभा द्वारा स्कूली बच्चों की क्विज प्रतियोगिता होगी और साथ ही लोकगीतों की प्रतियोगिता भी आयोजित की जाएगी। वहीं महिलाओं द्वारा पारंपरिक झोड़ा नृत्य का आयोजन भी किया जाएगा। 23 सितंबर अष्टमी को ब्रह्म मुहूर्त में देवी की प्राण प्रतिष्ठा करने के बाद श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए मंदिर में स्थापित कर दिया जाएगा ।23 सितंबर 26 सितंबर तक शाम 6 बजे से पांच आरती की जाएगी व इसके बाद प्रसाद वितरण किया जाएगा और रात्रि की देवी की पूजा व भोग लगाया जयेगा ।24 सितंबर नवमी की सुबह दुर्गा सप्तमी पाठ और हवन किया जाएगा दोपहर 1:00 बजे से कन्या पूजन व दोपहर 1:15 से सभी श्रद्धालुओं के लिए महा भंडारे का आयोजन डी0एस0ए0 मैदान में किया जाएगा । 25 सितंबर को दिन के समय नंदा चालीसा का आयोजन किया जाएगा और शाम के 7:00 बजे नैनीझील में दीपदान किया जाएगा । 26 सितंबर को दिन के समय सुंदरकांड का आयोजन किया जाएगा। 27 सितंबर को प्रातः देवी पूजन के पश्चात दिन में 12:00 बजे से नगर में डोला भ्रमण पूरे नैनीताल शहर में किया जाएगा और इसके पश्चात शाम को गोल्ज्यू मंदिर के पास तालाब में विसर्जित कर दिया जाएगा। रामसेवक सभा द्वारा श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की परेशानी ना हो इसके लिए बड़े पैमाने पर वॉलिंटियर्स की व्यवस्था की गई है। मंदिर परिसर में भी वॉलिंटियर्स को रखा गया है । वही इस बार बुजुर्ग श्रद्धालुओं के लिए अलग लाइन से लगाई जाएगी जिससे उन्हें बगैर परेशानी के मां के दर्शन हो पाएंगे।