@ नैनीताल – भारतीय शहीद सैनिक स्कूल की अध्यापिका डॉ रेनू बिष्ट ने किया नैनीताल का नाम रोशन…. ★30 स्वयंसेवियों को भी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा पुरस्कृत किया…. ★रिपोर्ट – (सुनील भारती ) “स्टार खबर ” नैनीताल….

197

@ नैनीताल – भारतीय शहीद सैनिक स्कूल की अध्यापिका डॉ रेनू बिष्ट ने किया नैनीताल का नाम रोशन….

★30 स्वयंसेवियों को भी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा पुरस्कृत किया….

★रिपोर्ट – (सुनील भारती ) “स्टार खबर ” नैनीताल….

नैनीताल — देशभर में राष्ट्रीय सेवा योजना के अंतर्गत सर्वश्रेष्ठ कार्य करने वाले 30 स्वयंसेवियों को भी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा पुरस्कृत किया गया ।यहां पर उल्लेखनीय बात यह है कि पूरे देश में सभी पुरस्कार विश्वविद्यालय स्तर पर कार्य करने वाली राष्ट्रीय सेवा योजना की इकाइयों को प्रदान किया गया ।पुरस्कार वितरण समारोह में पूरे देश के सभी राज्यों की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाइयों में से उत्कृष्ट कार्य करने वाली 10 इकाइयों को राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया ।
पुरस्कार प्राप्त करने के लिए प्रत्येक चयनित इकाई के कार्यक्रम अधिकारी एवं प्रधानाचार्य को राष्ट्रपति भवन में पुरुस्कृत किया गया ।इसी कड़ी में भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय की कार्यक्रम प्रभारी डॉक्टर रेनू बिष्ट को एक प्रशस्ति पत्र एक मेडल प्रदान किया गया ।भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई को प्राप्त ट्रॉफी को प्रधानाचार्य बिशन सिंह मेहता ने प्राप्त किया । विद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई को 2 लाख की नगद धनराशि पुरस्कार में दी जाएगी । कार्यक्रम अधिकारी को डेढ़ लाख रुपए की नगद धनराशि पुरस्कार में दी जाएगी ।भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय पूरे देश में एक मात्र राष्ट्रीय सेवा योजना की इकाई है,जिसमें माध्यमिक स्तर पर राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम प्रभारी डां रेनु बिष्ट राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया गया।डॉ रेनू बिष्ट ने गांव, शहर व स्कूल परिसर को साफ करने के लिए 100 से ज़्यादा अभियान चलाए और साथ ही जल संग्रहण वन संरक्षक के लिए नुक्कड़ नाटकों का आयोजन कर समाज में चेतना जगाई जिसके लिए इन्हें राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित किया गया । इससे पहले भी इन्हें स्वच्छ भारत सम इंटर्नशिप 2019 देश में प्रथम पुरस्कार
स्पर्श गंगा की तरफ से इनके उत्कृष्ट कार्य के लिए पुरुस्कृत किया गया। बता दें डॉ रेनू बिष्ट का बचपन रानीखेत में बीता पिता राधे किशन वर्मा व्यापारी व
माता माया वर्मा शिक्षिका है । इन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा रानीखेत से प्राप्त की इसके बाद नैनीताल कुमाऊँ विश्वविद्यालय से समाजशास्त्र से पीएचडी की ।
भारतीय शहीद सैनिक में शिक्षिका के पद में कार्य करते हुए विद्यालय को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाया जिसके चलते भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय नैनीताल उत्तराखंड एवं उत्तर प्रदेश का एकमात्र विद्यालय है जिसकी राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई को पुरस्कृत किया गया है ।
आज के इस कार्यक्रम में खेल एवं युवा मामलों के केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर सत मीठा राजू लोचन एवं खेल राज्य मंत्री
उत्तराखंड एवं उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय निदेशक राष्ट्रीय सेवा योजना के एस कबीर
आदि शामिल हुए ।भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय की इस ऐतिहासिक उपलब्धि के लिए कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर दीवान सिंह रावत ने विद्यालय की कार्यक्रम प्रभारी डॉक्टर रेनू बिष्ट एवं विद्यालय प्रधानाचार्य बिशन सिंह मेहता को बधाई देते हुए कहा है कि यह एक गर्व का क्षण है कि पूरे देश में एकमात्र विद्यालय है जिसे राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा गया है ।