@हल्द्वानी में एक्शन औऱ चम्पावत में संरक्षण , तो ओखलकांडा की सड़कों में गड्ढों से परेशान है जनता… ★. भीमताल ओखलकांडा बेडचुला कनवाड बैंड ढोलीगांव से कुलौन तक बदहाल है सड़कें । ★. अफसरों की लापरवाही से उत्तराखंड में बादल हो गई सड़कें ,घटिया डामरीकरण से करोड़ों रुपए हो रहे बर्बाद । रिपोर्ट (चन्दन सिंह बिष्ट) “स्टार खबर”

247

@हल्द्वानी में एक्शन औऱ चम्पावत में संरक्षण , तो ओखलकांडा की सड़कों में गड्ढों से परेशान है जनता…

★. भीमताल ओखलकांडा बेडचुला कनवाड बैंड ढोलीगांव से कुलौन तक बदहाल है सड़कें ।

★. अफसरों की लापरवाही से उत्तराखंड में बादल हो गई सड़कें ,घटिया डामरीकरण से करोड़ों रुपए हो रहे बर्बाद ।

रिपोर्ट (चन्दन सिंह बिष्ट) “स्टार खबर”

हल्द्वानी ,चम्पावत ,भीमताल ओखलकांडा

हल्द्वानी – शहर में खराब गुणवत्ता की सड़क बनाना एक ठेकेदार को भारी पड़ गया । नगर निगम के वार्ड संख्या 56 में गुणवत्ता को ताक में रखकर बनाई गई सड़क पर नगर आयुक्त ने कड़ा एक्शन लिया है । नगर आयुक्त ने पूरी सड़क को जेसीबी से उखड़वा दिया है औऱ ठेकेदार को दुबारा सड़क बनाने के निर्देश दिए हैं ।

लेकिन इसके ठीक उलट उस जिले में कार्य हो रहे हैं जिसे मुख्यमंत्री उत्कृष्ट जिला बनाने के प्रयास कर रहे हैं ।


जी हाँ , हम बात कर रहे हैं चम्पावत जिले की । यहाँ जिले के पाटी विकासखंड मुख्यालय को दर्जनों गांवों से जोड़ने वाली पाटी – मैरोली सड़क पर हाल ही में डामरीकरण हुआ । अभी डामरीकरण किए हुए महीना भी नहीं बीता है कि तमाम स्थानों पर सड़क का डामर उखड़ना शुरू हो चुका है ।
उधर हल्द्वानी में खराब काम करने वाले ठेकेदारों पर एक्शन लिया जाता है तो इधर चम्पावत जिले में संरक्षण दिया जा रहा है ।

“आपको बता दें कि उत्तराखंड में लोक निर्माण विभाग और ठेकेदारों की लापरवाही के चलते सड़कों की स्थिति बेहद खराब बनी हुई है ,हालत यह है कि सड़क करोड़ों रुपए खर्च करने के बाद भी बदहाल हैं कहीं 3 महीने में ही डामरीकरण उखड़ रहा है तो कहीं सड़कें बना ही नहीं जा रही जिससे स्थानीय लोग परेशान हैं वही भीमताल ओखलकांडा बेडचुला कनवाड बैंड ढोलीगांव से कुलौन तक बदहाल सड़कों पर दुर्घटनाओं का खतरा बना हुआ है और सड़कों के किनारे बने पैराफिठों के आसपास उग रही है बड़ी-बड़ी झाड़ियां, लेकिन जन प्रतिनिधि एवं सरकारी तंत्र लापरवाह बना हुआ है “।