झील किनारे से इलेक्ट्रिक मशीन से वृक्ष काटे जाने का मामला आया प्रकाश में..डी.एफ.ओ नैनीताल को मामले का संज्ञान नही…

291

उत्तराखंड में वन विभाग की लाचारी..सार्वजनिक स्थानों पर ही पेड़ सुरक्षित नही..झील किनारे से काटा पेड़…

सरोवर नगरी नैनीताल में झील के किनारे से तीन फीट गोलाई का एक पेड़ काट लिया गया है।जिसे स्वचालित मशीन से काटा गया है।सर्दियों के दिनों में जंगलों से तो अवैध कटान के मामले ज्यादा आने लगते है।कहीं स्थानीय जरूरत मंद लोग जंगलों से लकड़ी काट कर अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने के नाम पर होटलों में बोन फ़ायर के लिए लकड़ियाँ जुटाते है।लेकिन वन विभाग इस पर कोई ठोस कार्यवाही नही कर पाता है।जब सार्वजनिक स्थलों में वन विभाग की कोई पकड़ नही है तो समझा जा सकता है कि जंगलों में लकड़ी कटान व वन भूमि कितनी सुरक्षित होगी।प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि उक्त लकड़ी कटान को शनि मंदिर ठंडी सड़क में सुरक्षित रख दिया गया है।

अवैध पातन की ख़बर पर रेंज ऑफिसर को मामले की तहक़ीक़ात करने के दिए आदेश..-चंद्र शेखर जोशी डी.एफ.ओ नैनीताल…

नैनीताल के डी.एफ.ओ चंद्र शेखर जोशी से जब स्टार ख़बर ने उक्त पातन के संबंध में जानकारी चाही तो उन्होंने मामले की जानकारी होने से इंकार कर दिया।और उन्होंने तुरंत ही रेंज ऑफिसर को मामले की तहक़ीक़ात करने के आदेश दे दिए हैं।