राज्य के दूरस्थ क्षेत्रों में “डॉक्टर्स ऑन बाइक”,परामर्श,दवा सहित अनेकों योजनाएं लॉन्च..31 स्टार्टअप को दी गई मंजूरी…

128

राज्य के दूरस्थ क्षेत्रों में “डॉक्टर्स ऑन बाइक”,परामर्श,दवा सहित अनेकों योजनाएं लॉन्च..31 स्टार्टअप को दी गई मंजूरी…

देश में ऐसा नही है कि केवल एक पार्टी की सरकार में ही आमजन को स्वास्थ्य सेवाएं मिल रहीं हैं। देश के पिछड़े कहे जाने वाले राज्य बिहार में अब “डॉक्टर्स ऑन बाइक” योजना शुरू की गई है।जिन दूरस्थ स्थानों पर लोगों को ईलाज मुहैय्या नही हो पाता है वहाँ एप के माध्‍यम से डाक्‍टरी परामर्श से लेकर तमाम तरह की जांच की बुकिंग लोग कर सकेंगे। इन शुरू की गई योजनाओं के तहत आमजन दवाएं भी मंगा सकेंगे। और महंगे इलाज़ों के लिए भी कम मूल्यों में उच्चस्तरीय सेवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

उद्योग विभाग ने 31स्टार्ट-अप को सीड मनी की जारी …

उद्योग विभाग ने जिन 31 स्टार्ट-अप को हाल ही में सहायता प्रदान की है, उनमें हेल्थकेयर प्लेटफार्म पर ऐसे कई इनोवेटिव स्टार्टअप भी शामिल हैं। बाइक डाक्टर एवं डिजिटल फार्मेसी एप के साथ-साथ आयुर्वेदिक चिकित्सा के स्टार्टअप को भी सरकार ने इस योजना के तहत राशि उपलब्ध करायी है।इस योजना के तहत दुर्गम इलाको में रहने वाले लोगों के लिए बाइक डाक्टर की सुविधा शुरू की गई है।
इस योजना का मुख्य मक़सद ही बीमारों को उनके घर तक बाइक से डाक्टर को पहुंचाया जाना है। इसके साथ आपदा के समय टेलीमेडिसीन की सुविधा हर क्षेत्र में उपलब्ध करायी जाएगी।व एप के माध्यम से डिजिटल प्राइमरी हेल्थकेयर की पूरी सुविधा उपलब्ध रहेगी।

किडनी रोग तथा अन्य बड़े रोगों के ईलाज में भी मिलेगी मदद…

इस योजना के तहत किडनी रोग के ईलाज के लिए उनके आंकड़े वायरलेस प्रोटोकाल के माध्यम से संग्रह किए जाएंगे।तथा इस डाटा को विशेषज्ञ के पास भेज कर डायलिसिस में भी उन मरीजों की मदद की जाएगी।आयुर्वेद से जुड़े एक स्टार्ट-अप के तहत आयुर्वेद तथा फूड रिसर्च के माध्यम से साइंटिफक साल्यूशन उपलब्ध कराए जाएंगे।स्टार्ट-अप में शामिल एक फर्म का कहना है कि उनके द्वारा हर्बल और प्रसंस्करण के बाद खाद्य उत्पाद वहन करने योग्य कीमत पर उपलब्ध कराए जाएंगे।

योग्य स्टार्टअप्स को दिया गया है स्थान..बिहार स्टार्टअप फण्ड के अध्यक्ष व विकास आयुक्त विवेक कुमार सिंह…

बिहार स्टार्टअप फण्ड के अध्यक्ष व विकास आयुक्त विवेक कुमार सिंह ने बताया कि तीन चरणों की प्रक्रिया से गुजरने के बाद इन स्टार्टअप उद्यमियों का चयन किया गया है।इन 31 स्टार्टअप्स को सीड फण्ड के रूप में 1.86 करोड़ की रकम भी जारी कर दी गई है।और उम्मीद है कि ये स्टार्टअप्स पोडियम फिनिश तक पहुंचेंगे।इसमें उद्योग विभाग व स्टार्टअप्स को मिलकर काम करना है।