पहली बार ऐसा होगा दीक्षांत समारोह…घर बैठक बेटी को मैड़ल मिलते देख सकेंगे परिजन….अगर 27 को जाना है दीक्षांत समारोह में तो ये हैं आपके लिये व्यवस्थाएं….

82

नैनीताल से तनुजा बंगारी बिष्ट की रिपोर्ट

नैनीताल – कुमाऊँ विश्वविघालय के दीक्षांत समारोह की तैयारियां शुरु हो गई हैं। विश्वविघालय का 17वां दीक्षांत समारोह 27 मई को आयोजित होगा जिसमें सूबे के राज्यपाल मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री बतौर अतिथि शामिल होंगे.. 2 साल बाद आयोजित इस दीक्षांत समारोह में 58640 छात्रों को ड्रिग्री दी जायेगी 440 छात्र-छात्राओं को पीएचडी की उपाधि दी जायेगी 120 छात्रों को राज्यपाल मैड़ल देंगे। वहीं दीक्षांत समारोह के दौरान वनस्पति विज्ञान के डाक्टर चन्द्रशेखर को डी लिट डाक्टर सूरज कुमार संस्कृत व डाक्टर विनय काण्डपाल को प्रबंधन विषय पर कुलपति उपाधि प्रदान करेंगे। कुमाऊँ विश्वविघालय में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कुलपति कुमाऊँ विश्वविघालय एनके जोशी ने कहा कि मंत्रों के साथ दीक्षांत समारोह शुरु होगा और दीक्षांत सोभायात्रा निकाली जायेगी। कुलपति कुमाऊँ विश्वविघालय एनके जोशी ने कहा कि सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं और 2 सालों बाद दीक्षांत समारोह हो रहा है तो उत्साह शिक्षकों से लेकर छात्रों तक है..वो तैयार हैं मानद उपाधि के लिये नाम पर जल्द विचार होगा।

घर बैठे लोग देखेंगे बेटे को डिग्री मिलने का कार्यक्रम….

कुमाऊँ विश्वविघालय में पहली बार ऐसा होने जा रहा है कि घर बैठे लोग डिग्री लेते हुए अपने बच्चों को देख सकेंगे। इस दौरान विश्वविघालय पूरे कार्यक्रम का लाइव प्रसारण विश्वविघालय की बेवसाइड़ और फेसबुक से करेगा, इसके लिये कार्यक्रम हाँल में 3 से 4 कैमरे लगेंगे जिसके जरिये लोग अपने बच्चों को ड्रिगी देते हुए देख सकेंगे।

ये रहेंगी व्यवस्थाएं…..

सुरक्षा की दृष्टि से आमंत्रण पत्र अनिवार्य होगा और कर्मचारियों के साथ छात्रों शोधार्थियों को पहचान पत्र लाना अनिवार्य होगा…27 मई को भीड़ को देखते हुए डीएसबी रोड़ मे जाम ना लगे इसके लिये भी तैयारियां की जा रही हैं…छात्रों और अन्य स्टाफ के लिये मस्जिद चौराहे और तल्लीताल से गाडियां लगी रहेंगी जिसके जरिये सभी लोगों को एएन सिंह हाल तक लाया जा सकेगा..25 26 और 27 को डीएसबी परिसर में शिक्षण कार्य भी बंद रहेगा। डीएसबी के निदेशक एलएम जोशी ने कहा कि सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं और सभी लोगों को टेंड़र के जरिये काम पूरा करने को कहा गया है जोशी ने कहा अगर व्यवस्थाओं में कोई परिवर्तन होता है तो उसके लिये भी वो तैयार हैं।