नैनीताल में चार दिन पहले कोविड-19 के लिए जारी हुई एस.ओ.पी..लेकिन आज बड़े कार्यक्रम में नही हुआ उसका अनुपालन…

0
164

सरोवर नगरी में कोरोनाकाल के दौरान क्षेत्र में रेहड़ी,ठेली व फड़ वालों के उत्थान के लिए केंद्र की “प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना”का बड़ा कार्यक्रम..पर कोविड-19 के लिए जारी एस.ओ.पी का नही हुआ पालन…?

झील नगरी नैनीताल में आज नगर पालिका के तत्वावधान में “आजादी का अमृत महोत्सव” के तहत शुक्रवार को मल्लीताल डीएसए मैदान में “पी.एम स्वनिधि महोत्सव” कार्यक्रम आयोजित किया गया।जिसमें बतौर मुख्य अतिथि विधायक सरिता आर्य डीएम धीराज गर्ब्याल व पालिकाध्यक्ष सचिन नेगी,हल्द्वानी के महापौर जोगेंद्र रौतेला तथा ढेरों अन्य प्रशासनिक अधिकारियों ने शिरकत की तथा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ भी किया।

क्या है..प्रधानमंत्री”स्वनिधि योजना”…

कोरोनाकाल के दौरान क्षेत्र में छोटा व्यवसाय करने वाले रेहड़ी,ठेली व फड़ वालों का व्यवसाय पूर्ण रूप से प्रभावित हो गया था। जिसके चलते उनपर आजीविका का संकट उत्पन्न हो गया था। छोटे व्यवसायियों के जीवन यापन में आ रही कठिनाइयों को देखते हुए केंद्र सरकार द्वारा “स्वनिधि योजना” लांच की गई। ताकि छोटा कारोबार करने वाले रेहड़ी,फड़ व ठेली वाले अपना व्यवसाय पुनः शुरू कर अपनी आजीविका चला सकें।

“स्वनिधि योजना” के प्रचार-प्रसार के लिए किया गया वृहद आयोजन…

इस कार्यक्रम के लिए नैनीझील के निकट फ्लैट्स ग्राउंड में बहुत भारी भरकम रेन प्रूफ टेटिंग कर इंतजाम किये गए थे।
इस कार्यक्रम में स्ट्रीट वेंडर्स पर आधारित लघु फिल्म का प्रसारण किया गया तथा केदार घाटी से पहुँचे कलाकारों ने नुक्कड़ नाटक के जरिए प्रधानमंत्री “स्वनिधि योजना” के बारे में जनजागरण किया।इसके बाद लोक नृत्य के जरिए कुमाऊंनी संस्कृति के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए एक शो किया गया। मुख्य अतिथि सरिता आर्य व नगर पालिकाध्यक्ष सचिन नेगी द्वारा वेंडरो को वेंडर परिचय बोर्ड तथा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। चैयरमैन नगरपालिका सचिन नेगी ने बताया कि अब तक 121 फडों को वेंडिंग जोन में बैठ कर कारोबार करने की इजाज़त थी।लेकिन इसके अतिरिक्त भी यहाँ बैठने वाले सभी छोटे व्यवसायियों को लाइसेंस जारी किए जाएंगे।

कोविड के लिए जारी एस.ओ.पी का नही हुआ पालन…

आपको बता दें विगत 25 जुलाई को ही जिलाधिकारी नैनीताल धीराज गर्ब्याल ने प्रदेश में बढ़ते कोविड-19 के मामलों की वजह से जिले में कोविड से बचाव के लिए एस.ओ.पी जारी की थी।जिसमें कोविड से बचाव के लिए मास्क,सोशल डिस्टेंसिंग व टीकाकरण के आदेश जारी किए थे।लेकिन लगता है कि ये आदेश केवल आमजन के लिए ही जारी किए गए थे। नगर पालिका के लिए जैसे इस एस. ओ.पी में मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग के लिए कोई आदेश नही थे।इसीलिए स्वयं विधायका,जिलाधिकारी सहित तमाम प्रशासनिक अमले कि मौजूदगी में एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here