तैयारी….भारत रत्न के जमदिन को मनाया जाएगा भव्य….आयोजन समिति की तैयारियां अंतिम चरणों मे….पहाड़ का बेटा चमका था राष्ट्रीय स्तर पर…

27

नैनीताल- भारत के पूर्व गृह मंत्री उत्तराखंड के एक मात्र भारत रत्न पंडित गोविंद बल्लभ पंत का शनिवार को जन्म दिवस पंत पार्क मल्लीताल नैनीताल सहित पूरे नैनीताल में समारोह पूर्वक धूमधाम से मनाया जाएगा ।उनके जन्म स्थान खूंट,दिल्ली में भी विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं ,जिसमें विभिन्न राजनीतिक संगठन सामाजिक संगठन गणमान्य लोग भाग लेकर पं पंत को श्रद्धा-सुमन अर्पित करगें।
नैनीताल के कार्यक्रम कै मुख्य संयोजक पूरन सिंह मेंहरा ने बताया नैनीताल  के तराई तराई को बसाने में  पं पंत कांग्रेस  बहुत सराहनीय योगदान रहा ।उन्होंने कहा पंत जी हिमालय जैसे शांत व चट्टान जैसे अडिग नेता थे। पंत जी अल्मोड़ा जनपद के खूंट गांव में 10 सित्मबर 1887 को पैदा हुए पंत जी की प्रारंभिक शिक्षा अल्मोड़ा में हुई इलाहाबाद वर्तमान में प्रयागराज से उन्होंने कानून की परीक्षा उत्तीर्ण की ।नैनीताल काशीपुर व अल्मोड़ा में वकालत की ।
बाद में महात्मा गांधी के आव्हान पर अपनी वकालत छोड़कर देश की आजादी के आन्दोलन में कूद गये। पंत जी नैनीताल जिला बोर्ड के अध्यक्ष के साथ-साथ तल्लीताल नैनीताल की रामलीला समिति सहित कई सामाजिक संगठनों से भी सक्रिय रूप से जुड़े रहे नैनीताल बैंक की स्थापना में उनका योगदान बड़ा योगदान रहा जिस कारण आज भी बैंक उनकी याद में कार्यक्रम आयोजित करता है। कुली बेगार जैसी कुप्रथा को खत्म करने में उनकी महत्वपूर्ण रही 1923 में वह उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य बने। 1927  में उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए। वह कांग्रेस कार्यकारिणी के 30 वर्षो तक सदस्य रहे, गांधी जी द्वारा चलाए गए तमाम आंदोलन में वह कई बार गिरफ्तार किए गए सन् 1946 में संयुक्त उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने 8 वर्षों तक इस पद पर रहे 1954 में केंद्रीय गृह मंत्री बने 57 में डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने उन्हें सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से नवाजा 7 मार्च 1961 को उनका देहांत हुआ।।
अल्मोड़ा के निकटवर्ती हवालबाग के खूंट गांव से निकलकर देश की राजनीति में अपना स्थान बनाने वाले पंडित जी की 135 वा जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया पंत पार्क में मनाया जाएगा, सभी नैनीताल के प्रबुद्ध जनो से अपील कर अधिक से अधिक संख्या मे पहुंच कर,उनको पुष्पांजलि कर श्रद्धा-सुमन अर्पित करे,जो पं पंत जी को सच्ची श्रध्दांजलि होगी।   मेंहरा ने बताया उक्त कार्यक्रम में केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री ,गणमान्य व्यक्ति अधिकारीगण विभिन्न राजनीतिक संगठन के लोग अपने श्रद्धा-सुमन अर्पित करगें।