अवैध निर्माण पर प्राधिकरण के 2 इंजीनियर पर कार्रवाई….कमिश्नर दीपक रावत ने ग्रीन जोन में मांगी 1 हफ्ते में रिपोर्ट…सचिव की भूमिका पर भी उठाए सवाल

463

नैनीताल से चंदन बिष्ट की रिपोर्ट

नैनीताल – कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत ने नैनीताल में ग्रीन बेल्ट में हो रहे निर्माण पर बड़ी कार्रवाई के आदेश जारी किये हैं। कमिश्नर कुमाऊं दीपक रावत ने कहा कि इसके लिये बकायदा सचिव जिला विकास प्राधिकरण को ग्रीन जोन में सर्वे रिपोर्ट मांगी है। नैनीताल में स्टार खबर से बातचीत में कमिश्नर ने सचिव के कार्य पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कि जो भी कार्रवाई हुई है वो नाकाफी है लिहाजा इसके लिये सचिव को सख्त कदम उठाने को कहा गया है। कमिश्नर दीपक रावत ने कहा कि आयारपाटा में 2 अवैध निर्माण पर कार्रवाई की है और अन्य स्थानों पर कार्रवाई की गई है। दीपक रावत ने कहा कि सचिव को अवैध निर्माणों की जानकारी न होना एक गम्भीर मामला है। मण्डलायुक्त दीपक रावत ने सचिव जिला विकास प्राधिकरण को नैनीताल में ग्रीन बैल्ट और असुरक्षित क्षेत्र में अवैध निर्माण को चिन्हित कर एक सप्ताह में रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए है। कमिश्नर ने कहा कि मल्लीताल क्षेत्र में राजमहल कम्पाउन्ड में एकल आवासीय भवन निर्माण की अनुमति दी गई थी परन्तु स्थल पर व्यवसायिक निर्माण किया जा रहा था। इसके साथ ही अयारपाटा क्षेत्र के स्टाबरी लॉज काशीपुर हाउस में ग्रीन बैल्ट में हो रहे अवैध व्यवसायिक निर्माण को सील किया गया था। प्राधिकरण से नक्शा पारित किए बगैर दोनों निर्माण कार्य किये जा रहे थे। दरअसल सुप्रीम कोर्ट के साथ हाईकोर्ट ने भी 1995 से लेकर अब तक कई आदेश दिये हैं बावजूद इसके अवैध निर्माण के साथ होटल मकान दुकान बने हैं नैनीताल में असुरक्षित क्षेत्र और ग्रीन बैल्ट की वर्ष 2015 एवं वर्तमान की गूगल इमेज का परीक्षण कर, वर्ष 2015 से वर्तमान तक ग्रीन बैल्ट और असुरक्षित क्षेत्र में हुए अवैध निर्माण की विस्तृत आख्या देने के निर्देश सचिव, जिला विकास प्राधिकरण को दिए है। कमिश्नर ने कहा कि इस में प्राधिकरण के इंजिनियर जेई के खिलाफ कार्रवाई के लिये कहा गया है और अगर आगे भी ऐसी स्थिति रहेगी कार्रवाई होगी।