आदेश…नैनीताल की नयना देवी मंदिर आने के लिए पहनने होंगे ऐसे कपड़े….पर्यटकों और श्रद्धालुओं के लिए जारी हुआ आदेश…मंदिर गेट पर चिपकाया आदेश

381

नैनीताल – हरिद्वार गंगा किनारे और घाटों पर लड़कियों द्वारा अमर्यादित कपड़ों में वीडियों शूट और अपने फाँलोअर बढाने के मामले में उठे विरोध के स्वर के बाद अब नैनीताल में भी इसका असर दिखने लगा है। नैनीताल के नयना देवी मन्दिर प्रबंधन ने बकायदा मन्दिर गेट पर ही लिख दिया है कि अमर्यादित कपड़े पहनकर मन्दिर में आने से बचें।

शक्तिपीठ है नयना देवी का मन्दिर…

दरअसल नैनीताल की नयना देवी शक्तिपीठ है और हर साल लाखों पर्यटकों के साथ श्रृधालु यहां दर्शन के लिये पहुंचते हैं। कई बार कई महिला हो या पुरुष पर्यटक यहां ऐसे कपड़े पहनकर आते हैं जिसको लेकर मन्दिर आने में विवाद रहता है। जिसके बाद अब नयना देवी में प्रवेश मर्यादित कपड़ों के साथ प्रवेश करने का आदेश लगा दिया गया है। मन्दिर प्रबंधन ने बोर्ड़ में साफ लिखा है कि मन्दिर में मर्यादित और शालीन वस्त्रों के साथ ही प्रवेश करें। मंदिर प्रबंधन ने कहा कि मंन्दिर आने वाले भक्तों के सुझाव के बाद ही ये निर्णय लिया गया है। वहीं मनमोहन खाती और विजय मेहरा ने मंन्दिर प्रबंधन को पत्र लिखने के बाद कहा था कि मन्दिर आने वाली लड़कियां नियमअनुसार ही परिधान पहनकर आएं और मंन्दिर धार्मिक स्थल के बजाए पिकनीक स्पाँट ज्यादा लग रहा है और पत्र में कहा कि ये मेरा सुझाव नहीं बल्कि हिंदू धर्म का सुझाव और सभ्यता है इसके साथ ही कुछ साउथ इंडियन लोगों ने भी यही मांग की है कि नयना देवी मंन्दिर में वस्त्र मर्यादित होनी चाहिये और इस पर विचार करें। वहीं मंन्दिर प्रबंधन समिति ने कहा कि वो कपड़ों के लिये किसी को रोक तो नहीं सकते लेकिन कई लोगों की मांग के बाद ये निर्मय लेना पडा है जिसको लेकर मर्यादित कपड़े पहनने की मांग की है जिसको लेकर मंदिर प्रबंधन नियम तैयार कर रहा है।

हरिद्वार में भी उठी थी मांग…

दरअसल इससे पहले हरिद्वार गंगा किनारे से ये मांग उठी थी हरिद्वार के कुछ संतों और पंड़ों ने आवाज उठाई थी और कहा था कि गंगा घाटों पर लडकियां छोटे छोटे कपड़ों में वीडियों शूट कर रहे हैं जो अमर्यादित लग रहे हैं और अपने वीडियों के फाँलो बढाने के चक्कर में धार्मिक भवनाओं से खिलवाड़ कर रहे हैं इसमें मांग की गई थी कि ऐसे लोगों पर कार्रवाई की जानी चाहिये..हांलाकि इस पर नैनीताल मंदिर प्रबंधन ने संज्ञान लेकर कार्रवाई की है।