संसद की सुरक्षा में सेंध मामले में विरोध कर रहे सांसदों पर गिरी गाज..33 सांसदों को पूरे सत्र के लिए किया निलंबित…

137

देश की सुरक्षा में सेंध मामले में विरोध कर रहे सांसदों पर गिरी गाज..33 सांसदों को पूरे सत्र के लिए किया निलंबित…

देश की नई संसद में विगत दिनों हुई सुरक्षा चूक मामले में तमाम विपक्षी राजनीतिक दलों ने संसद के दोनों सदनों के भीतर विरोध प्रदर्शन जारी रखा हुआ है।आपको बता दें कि 13 दिसंबर के दिन जब देश संसद पर आतंकी हमले की 22वीं बरसी मना रहा था। तभी विजिटर्स पास पर सदन की कार्यवाही भाजपा सांसद के पास पर देखने आए दो युवको मनोरंजन और सागर शर्मा ने विजिटर्स गैलरी से कूदकर सीधे लोकसभा सदन में छलांग लगा दी। इसके बाद इन यवकों ने अपने जूतों में छिपाकर लाए गए स्मॉग स्प्रे का इस्तेमाल कर सदन में धुआं फैला दिया।ठीक उसी समय संसद के बाहर नीलम आजाद और अमोल शिंदे नाम के दो लोगों ने भी स्मॉग फैलाया और नारेबाजी की। पुलिस ने इन दोनों को भी गिरफ्तार कर लिया। वहीं इस वाकये को अपने मोबाइल में रिकॉर्ड कर रहा मास्टरमाइंड ललित झा मौके से फरार हो गया।जबकि कुछ दिन पहले ही उसने पुलिस को सरेंडर किया था। इस मामले में फिलवक्त सभी आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया गया है.

मामले की तह तक जाना जरूरी..आखिर कौन है इसके पीछे…- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी…

स्पीकर ओम बिड़ला के लाख मना करने के बावजूद हंगामा नही थमा।जिस पर काँग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी सहित अनेक विपक्षी दल के सांसदों पर कार्रवाई की गई। अब तक कुल 33 विपक्षी सांसदों को लोकसभा से निलंबित किया जा चुका है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी उक्त सुरक्षा चूक को चिंताजनक बताया। स्पीकर ओम बिड़ला ने भी मामले की उच्च स्तरीय जाँच जारी होना बताया और कहा कि जब जाँच चल रही है तो इतना विरोध ठीक नही है।सच सबके सामने आएगा।इन निलंबित किये गए सांसदों में कांग्रेस के 11,तृणमूल के 9,डी.एम.के के 9 व चार सांसद अन्य दलों के हैं।लोकसभा के 33 व राज्यसभा के 45 सांसदों, कुलमिलाकर 78 सांसदों को निलंबित किया गया है।