22 वर्ष बाद संसद की सुरक्षा एक बार फिर हुई धराशायी..लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने विजिटर गैलरी के पास बनाने पर लगाई रोक,बुलाई सर्वदलीय बैठक…

205

22वीं बरसी पर संसद की सुरक्षा फिर धराशायी..लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने विजिटर गैलरी के पास बनाने पर लगाई रोक…

भारतीय संसद यानि कि लोकतंत्र के मंदिर पर आतंकी हमले की आज 22वीं बरसी है। 22 साल पहले आज ही के दिन यानी 13 दिसंबर 2001 को संसद पर आतंकी हमला हुआ था। जिसमें सुरक्षाकर्मियों समेत नौ लोग मारे गए थे और 18 लोग घायल हुए थे। बस देश का कोई सांसद इस आतंकी घटना में चपेट में नही आया था।आज एक बार फिर से बाईसवीं बरसी पर संसद की सुरक्षा में सेंधमारी हुई है।दर्शक दीर्घा के पास पर संसद की गतिविधियों को देखने के बहाने कुछ लोग पास लेकर भीतर पहुँचे थे।अचानक उन्होंने दर्शक दीर्घा से लोकसभा सदन में कूद लगा दी व और स्प्रे के जरिए वहाँ धुआं छोड़ने लगे। परिसर में मौजूद दो अन्य लोगों ने तानाशाही नहीं चलेगी। भारत माता की जय.. और जय भीम और जय भारत के नारे भी लगाए तुरंत ही सुरक्षा कर्मियों ने उन्हें दबोच लिया।मामले में पुलिस के साथ IB की टीम भी पूछताछ में जुट गई है।

विपक्षी दलों का आरोप..पकड़े गए लोग बीजेपी सांसद के थे मेहमान…

लोकसभा के अंदर घुसने वाले एक आरोपी का नाम मनोरंजन और दूसरे का नाम सागर शर्मा है। मनोरंजन मैसूर का रहने वाला है।ये भाजपा सांसद प्रताप सिम्हा के संसदीय क्षेत्र में रहते हैं।सांसद दानिश अली ने पकड़े गए व्यक्ति सागर शर्मा को लेकर दावा कर कहा कि मुख्य आरोपी सागर को बीजेपी सांसद प्रताप सिम्हा ने पास दिलाया था।मामले की जाँच सुरक्षा एजेंसियां कर रही हैं।फिलवक्त स्पीकर ओम बिड़ला ने जहाँ एक तरफ विजिटर गैलरी के पास बनाने पर रोक लगा दी है वहीं सर्वदलीय बैठक बुलाकर संसद की सुरक्षा चूक को लेकर चर्चा करने की बात कही है।संसद के बाहर से भी दो लोगों को हिरासत में लिया गया जो कि बम-पटाखे छोड़ कर विरोध प्रदर्शन कर रहे थे।और तानाशाही नही चलेगी ऐसे नारे भी लगा रहे थे।