नैनीताल डीएम धीराज गर्ब्याल को खुली चुनौती..यहां के लिये लिया निर्णय तो तोड़ देंगे… कौन है इस खेल के पीछे….मुकदमा दर्ज..पढ़ें पूरी कहानी…

1008

नैनीताल – नैनीताल में अराजक तत्वों का आतंक इस कदर है कि रात तो छोड़ो दिन में भी वाहन नैनीताल में सुरक्षित नहीं हैं…नैनीताल पुलिस थाने के पास आज सुबह 9 बजे के बाद तीन गाडियों के शीशे तोड़ दिये गए और कुछ वाहनों को नुकसान पहुंचाया गया है। कल ही नैनीताल डीएम के आदेश के बाद हल्द्वानी रोड़ को जाम मुक्त करने के लिये 2 महिने के लिये स्थानीय लोगों को फ्री पार्किंग के निर्देश दिये थे और पुलिस ने कुछ वाहनों को यहां कल से लगाना शुरु किया था..आज सुबह इन गाडियों के शीशे को तोड दिया गया है। हांलाकि इस मामले में स्थानीय लोगों व वाहन स्वामियों की तहरीर पर अज्ञान के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो गया है और जांच शुरु कर दी गई है……

कौन है इस खेल के पीछे….

दरअसल डीएम नैनीताल के प्रयास के बाद बन रही इस पार्किंग का विरोध लगातार 2 सालों से चल रहा था जिसके बाद अब इन गाडियों के शीशों को तोड़ा गया है..इससे पहले पार्किंग के निर्णय लेने के दौरान ही स्कूल के कमरे में आग लगा दी गई जिसकी जांच भी अधूरी है। सूत्रों की मानें को आज सुबह कुछ लोग यहां नारे लगाते दिखे हैं जो ये कहते हैं कि जब तक गाडियां खड़ी होंगी तब तक शीशे टूटते रहेंगे…बतादें कि नैनीताल के इस स्कूल में पार्किंग से ज्यादा इस बात की चिंता यहां शिक्षकों को है कि उनका तबादला इस स्कूल से कहीं ग्रामीण इलाकों के स्कूलों में ना हो जाए जिससे उनको घर से दूर जाकर काम करना पड़ेंगा,, सूत्रों के मुताबिक हालत ये है कि नौकरी बचाने के लिये भी नेपालियों के बच्चों घरों से पकड़कर प्रवेश दिया जाता है ..हांलाकि तल्लीताल थाने में दर्ज हुई एफआईआर के बाद कई लोग रड़ार पर आ गये हैं जिनसे जल्द पुलिस पुछताछ कर सकती हैं और इन लोगों को जेल भेजा जा सकता है..तल्लीताल थाने के एसओ रोहिताश सागर ने कहा कि इस मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है साथ ही जांच शुरु कर दी है जांच में जो भी तथ्य मिलेंगे और जो लोग शामिल होंगे उनके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जायेगी।