गोल्ज्यू करेंगे न्याय …मुझे भी गोल्ज्यू ने बुलाया है चम्पावत…बीजेपी की ही होगी जीत…निर्मला गहतोड़ी ने जताया कांग्रेस आलाकमान पर भरोषा…

46

भवाली से प्रवीण कपिल की रिपोर्ट

नैनीताल – कांग्रेस ने भले ही चम्पावत उपचुनाव में निर्मला गहतोड़ी को उमीदवार बनाया है लेकिन मुख्यमंत्री ने उपचुनाव में बीजेपी की जीत का भरोषा जताया है। नैनीताल के घोड़ाखाल पहुंचे मुख्यमंत्री ने कहा कि गोल्ज्यू भगवान न्याय करेंगे और चम्पावत से ही सभी जगह गोल्ज्यू गये हैं..सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि उनको भी गोल्ज्यू ने ही चम्पावत बुलाया है लिहाजा सब ठीक होगा और सेवा करने का मौका भी मिलेगा..इस दौरान सीएम ने कहा कि कोरोना के बाद राज्य में यात्राएं शुरु हो रही हैं और केदारनाथ के आज कपाट खुले हैं और गोल्ज्यू यात्रा का समापन हुआ है सीएम ने कहा कि भारी संख्या में लोग यात्रा में शामिल हो रहे हैं जो भी यात्री उत्तराखण्ड आ रहा है वो सुरक्षित यात्रा का संदेश लेकर यहां से जाएं और एक सुखद अनुभव भी अपने साथ लेकर जाएंगे क्योंकि व्यवस्थाएं चारधाम के लिये दुरस्त की हैं। सीएम ने कहा कि गोल्ज्यू और बाबा केदार की कृपा से सभी काम पूरे होंगे..सीएम ने कहा कि आज केदारनाथ में भारी भीड़ है और सभी जरुरतें पूरी की है अगर कुछ और जरुरत होगी तो काम किया जायेगा। वहीं राज्य में आई पिछले साल की आपदा में नुकसान पर सीएम कुछ भी बोलने से कतराते रहे और कहा कि जल्द ही आपदा से जुड़े काम होगें.

कौन है सीएम के खिलाफ चुनाव मैदान में…..

दरअसल उत्तराखंड बनने के बाद 2002 से फ़रवरी 2022 तक चंपावत में कांग्रेस चेहरा हेमेश खर्कवाल रहे हैं..लेकिन इस बार उपचुनाव में कांग्रेस ने निर्मला गहड़ोड़ी को चुनाव मैदान में उतारा है..निर्मला दो बार चम्पावत में कांग्रेस की जिलाध्यक्ष रही हैं तो हरीश रावत सरकार के दौरान दर्जा मंत्री भी रही है। कांग्रेस उमीदवार निर्माला ने कहा कि केन्द्र से लेकर राज्य नेतृत्व ने उन पर भरोषा जताया है और इस चुनाव में वो इस सीट से सीएम को हराकर विधानसभा पहुंचेंगी..

गोल्ज्यू संदेश यात्रा का भी हुआ समापन..

दरअसल सीएम गोल्ज्यू संदेश यात्रा के समापन पर नैनीताल आए थे घोड़ाखाल मंदिर में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पत्नी के साथ पूछा अर्चना की और खुशहाली की कामना की..इस दौरान सीएम ने चम्पावत चुनाव में भी जीत का आर्शिवाद लिया..आपको बतादें कि गोल्ज्यू संदेश यात्रा 150 गांव से होकर गुजरी इस दौरान 22 सालों में उत्तराखण्ड को क्या मिला और आगे किस तहर की जरुरत राज्य को है इस पर चर्चा की गई है। हांलाकि इस दौरान गोल्ज्यू पंचायत के जरिये भी लोगों के सुझावों पर एक रिपोर्ट तैयार की है जिसको आयोजन समिति सरकार को सौंपेगी….