भ्रष्टाचार की लड़ाई… उद्यान विभाग में भष्टाचार की कहानी…लेकिन फंसा गया दीपक महिला उत्पीड़न में.. अब हाई कोर्ट ने कहा सरकार क्या हुआ जांच का…

692

नैनीताल – उघान विभाग के निदेशक हरमिंदर सिंह बवेजा की मुश्किलें बढने जा रही हैं..उन पर लगे भ्रष्टाचार का आरोप का मामला हाईकोर्ट पहुंच गया है। हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस कोर्ट ने राज्य व केन्द्र सरकार के साथ सचिव उघान,कृर्षि सचिव भारत सरकार और निदेशक को नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने 4 हफ्तों में जवाब मांगा है और पूछा है कि जो जांच हुई उस पर क्या कार्रवाई हुई है। आपको बतादें कि दीपक करगेती ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल कर कहा है कि निदेशक हरमिंदर सिंह बवेजा पर खाज बीज और पौंधे के नाम पर भ्रष्टाचार का आरोप है और अंतराष्ट्रीय सेमिनार पर केन्द्र सरकार के पैंसे का भी घोटाला किया है। याचिका में कहा गया है कि सरकार द्वारा 14 सितंबर 2022 को इस मामले में जांच बैठाई और कहा कि 15 दिनों में जांच रिपोर्ट देनी होगी…लेकिन ना तो अब तक जांच रिपोर्ट आई और क्या कार्रवाई हुई इसका भी कोई पता नहीं है याचिका में उच्च स्तरीय जांच की मांग करते हुए दोषी पर कार्रवाई की मांग की है।
याचिकाकर्ता दीपक करगेती ने कहा कि उनकी लड़ाई भ्रष्टाचार के खिलाफ है और उन्हौने 16 अप्रैल 2022 को चौबटिया में तालाबंदी की और निदेशक को यहीं बैठने और उन पर लगे भ्रष्टाचार की जांच की मांग की, करगेती ने कहा कि किसानों के साथ भी गैरसैण तक यात्रा निकाली और सरकार को ज्ञापन भेजा जब इस मामले के कुछ नहीं हुआ तो 31 अगस्त को मेरे को महिला उत्पीड़न का आरोप लगा दिया जबकि में भष्टाचार की लड़ाई लड़ रहा था। दूसरे दिन ही मैंने गांधी पार्क देहरादून के आमरण अनशन शुरू किया 13 दिनों तक चले इस अनशन के बाद सरकार ने जांच बैठाई और तीन महीने बीत जाने के बाद भी जांच गायब है।

नव वर्ष 2023 की शुभ कामनाएँ।