बाबा का आर्शिवाद का असर…देश दुनियां के भक्तों का तांता कैंचीधाम में उमड़ा आस्था का सैलाब…एसएसपी ने खुद गेट पर खड़े होकर किया यातायात मैनेजमेंट..

140

नैनीताल – पहाड़ और देवभूमि और पहाड़ों में देवों का वास,,नैनीताल के कैंचीधाम में भी आज आस्था का सैलाब उमड़ गया..पिछले सभी रिकार्ड़ भक्तों ने तोड़ दिये तो घंटों बाद श्रृधालुओं को अपने बाबा महाराज के दर्शन हो सके..पिछले साल से दो गुना पहुंचे भक्तों में थकान तो जरुर थी लेकिन शिकायत कुछ भी नहीं..
चमत्कार करने वाले बाबा नीब करौरी के धाम आज सुबह से ही भक्तों का तांता लगा रहा..सुबह 4 बजे से ही भक्त कैंचीधाम पहुंचे जिसके बाद लम्बी लाइनों में बाबा के भक्तों ने दर्शन कर आर्शिवाद लिया और प्रसाद ग्रहण किया..सरकारी अनुमान से ज्यादा पहुंचे भक्त से माहौल भक्तिमय रहा तो 3 किलोमीटर तक लम्बी लाइनें सुबह ही देखने को मिली..घंटों बाद दर्शन के पुण्य लेकर भक्त वापस लौट गये और बाबा से धन धान्य करने का आर्शिवाद मांग गये..इस बार माना जा रहा है कि 3 लाख से ज्यादा भक्तों ने यहां दर्शन कर पुण्य प्राप्त किया।


यूपी से आई संध्या ने कहा की वो बाबा की भक्त हैं और उनके चमत्कारों के बारे में उन्हौने जाना है यहां आकर शांति के साथ आस पास कुछ होने का आभाष होता है। विनय मिश्रा कहते हैं कि वो हर बार यहां आते हैं लेकिन इस बार बढिया व्यवस्था थी कोई दिक्कत उनको दर्शनों में नहीं हुई स्थानीय ममता रावत कहती है कि बाबा ने हमेशा आर्शिवाद दिया और बाबा के चमत्कार इतने हैं कि तब इतनी भीड़ यहां दिख रही है ममता कहती हैं कि एक बार यहां भण्डारा हो रहा था और तेल की कमी हो रही थी लेकिन बाबा ने नदी से पानी लिया और उसमें पूरियां तली गई..
आपको बतादें कि कैंची धाम पर देश ही नहीं विदेशी भक्तों की भी आस्था जुड़ी है। इसी मन्दिर पर कई कहानियां यहां प्रचलित हैं तो फेसबुक के मालिक मार्क जुकर्बग व एप्पल के संस्थापक स्टीव जाँब को भी इसी मन्दिर से कामयाबी मिली,तो क्रिकेट स्टार विराट कोहली को भी यहां से आर्शिवाद मिला कहा जाता है कि अल्मोड़ा से आते वक्त बाबा यहां रुके थे और एक बार तो रात में एक व्यक्ति यहां को नैनीताल आना था उसको बस नहीं मिली लेकिन बाबा का चमत्कार रहा कि उसको उसी वक्त बाबा के दर्शन हो गये..कई कहानियां ऐसी ही बाबा को लेकर हैं..वहीं मंदिर प्रबंधन समिति के प्रदीप साह कहते हैं की ये बाबा का ही चमत्कार है कि इस कदर लोग यहां उमड़ रहे हैं और भीड़ लगातार बढ रही है..एक बार बाबा ने कहा था कि 50 साल बाद देखना कैंची क्या होगा आज वो दिख रहा है।

शटल सेवा से कम हुई मुश्किलें एसएसपी खुद मैदान में…

पहली बार ऐसा रहा कि कैंची आने जाने वालों को कैंचीधाम के आस पास जाम और गाडियों का शोर नहीं मिला..कैंचीधाम को वाहनों के लिये जीरो जोन कर दिया गया तो अल्मोड़ा आने जाने वालों को बाया रामगढ भेजा गया..भवाली से कैंचीधाम के लिये जिला प्रशासन ने शटल सेवा का प्रबंध किया था तो पुलिस की भी व्यवस्थाएं बेहतर रही हैं। पुलिस ने 400 से ज्यादा पुलिसकर्मियों को ड्यूटी पर लगाया था जिसमें कई बिना वर्दी के भी थे..यातायात प्रबंधन के लिये सीओ से लेकर एसपी सिटी और एसपी क्राइम व यातायात जगदीश चंद्र ने मोर्चा संभाले रखा तो एसएसपी नैनीताल पंकज भट्ट भी यातायात को लेकर मुस्तैद रहे..एसएसपी तो मंदिर गेट पर ही घंटों तक व्यवस्था खुद बनाने में जुटे रहे एसएसपी नैनीताल पंकज भट्ट ने कहा कि चुनौती जरुर थी लेकिन उसको बेहतर प्रबंधन के जरिये अच्छा किया गया है..150 शटल सेवा वाहनों से जाम से मुक्ति दी है तो भवाली में पार्किंग से कैंची में जाम नहीं लगा और भक्त भी आसानी से कैंची तक पहुंच सके हैं। एसएसपी ने कहा कि इस बार की व्यवस्था बेहतर रही हैं और आगे भी ऐसी ही व्यवस्था बनाई जायेगी।