उत्तराखंड की बेटी अंकिता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में चौकाने वाले खुलासे..मुख्यमंत्री धामी से बातचीत के बाद परिजनों ने किया अंतिम संस्कार …

638

अंकिता की हत्या से उत्तराखंड में शोक की लहर..पोस्टमार्टम रिपोर्ट में चौकाने वाले खुलासे..मुख्यमंत्री के दखल के बाद परिजनों ने किया आज अंतिम संस्कार…

उत्तराखंड में भाजपा नेता के पुत्र द्वारा किये गए जघन्य हत्याकांड से जन-जन सिहर उठा है। पौड़ी जनपद के श्रीनगर में अंकिता मर्डर केस में आज जहां पोस्टमार्टम के बाद कई खुलासे हुए हैं। तो वहीं पहले परिजनों ने पूरी पोस्टमार्टम रिपोर्ट न आ जाने तक अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है। बताया जा रहा है की पोस्टमार्टम की पूरी रिपोर्ट सोमवार तक आएगी। ऐसे में शासन-प्रशासन अंकिता भंडारी के परिजनों को मनाने में जुटा रहा। जब मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने स्वयं अंकिता के पिता से बातचीत की तब जाकर मामला सुलझा। और परिजन अंतिम संस्कार के लिए राजी हुए।

परिजनों ने कहा कि सरकार द्वारा उक्त रिजॉर्ट में सुबूत नष्ट करने के लिए चलाया गया बुलडोजर…

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अंकिता के शरीर पर मृत्यु से पूर्व अनेक चोट के निशान बताए गए हैं। वहीं परिजनों का कहना सरकार द्वारा साक्ष्य मिटाने के लिए रिजॉर्ट में बुल्डोजर से तोड़-फोड़ की गई है। वहीं परिजनों ने अंकिता के पोस्टमार्टम पर भी सवाल उठाए हैं। परिजनों ने अंकिता का फिर से पोस्टमार्टम करने की मांग की है।

मामला सत्ता पक्ष के लोगों से जुड़ा है इसलिए प्रशासन परिजनों को जल्द अंतिम संस्कार के लिए मनाने में जुटा…

जैसा कि बताया गया था कि श्रीनगर में अंकिता के अंतिम संस्कार की तैयारी चल रही है। श्रीनगर गढ़वाल के आई.टी.आई घाट में दूर दराज से लोगों के पहुंचने का सिलसिला भी तेज हो गया है।आज हत्याकांड के विरोध में श्रीनगर व्यापार मंडल ने बाजार भी बंद रखा है। शहर में माहौल पूरी तरह से गमगीन रहा।माहौल को देखते हुए घाट पर भारी पुलिस फोर्स की तैनाती की गई। वहीं, दूसरी तरफ अंकिता के परिजनों ने सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करते हुए अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया था।परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए मनाने में प्रशासन के पसीने छूटते रहे।और अगर मामला सत्ता पक्ष से जुड़ा हो तो प्रशासन शीघ्र अतिशीघ्र अंतिम संस्कार करवाने की पुरजोर कोशिशें करने का प्रयास करता है। जिसमें मुख्यमंत्री धामी के दखल व मामले में पूरा न्याय मिलने की शर्त पर परिजनों ने अंकिता का देर शाम अंतिम संस्कार कर दिया।चिता को मुखाग्नि अंकिता के भाई ने दी।