नैनीताल के खुर्पाताल,सातताल भवाली समेत कई गांव मास्टर प्लान में होंगे शामिल…..कमिश्नर को मिली ड्राफ्ट तैयार करने वाली कम्पनी के काम में खामियां…भवाली पालिका अध्यक्ष ने कर दी मास्टर प्लान से पहले ये मांग…

175

नैनीताल से दीपक कुमार की रिपोर्ट
नैनीताल – नैनीताल के भवाली सातताल घोड़ाखाल समेत नए हिस्सों को भी मास्टर प्लान में शामिल किया जायेगा। बकायदा इसके लिये प्लान तैयार किया जा रहा है मास्टर प्लान का सर्वे पूरा कर ड्राफ्ट को अंतिम रुप दिया जा रहा है। कमिश्नर कुमाऊँ ने नैनीताल में नए मस्टर प्लान की बैठक ली है इस दौरान अधिकारियों से सभी तहर की जनकारियां ली है। हांलाकि बैठक के दौरान ड्राफ्ट तैयार कर रही एजंसी आधी अधूरी जनकारी के साथ बैठक में आई और टूरिस्ट से लेकर होटल और अन्य जानकारी देने में नाकाम रही जिस पर कमिश्नर ने आदेश दिया है कि तत्काल इन सभी खामियों को दूर कर प्लान तैयार करें। इस दौरान कमिश्नर ने कहा कि 2011 में महायोजना समाप्त हो गई लेकिन अब 2041 तक जो योजना बने उसमें पर्यटकों से लेकर स्थानीय लोगों के हितों को ध्यान में रखा जाए। हांलाकि भवाली पालिका अध्यक्ष ने मास्टर प्लान लागू करने के पहले बुनियादी सुविधाओं की मांग की है।

इस दौरान कमिश्नर कुमाऊँ ने कहा कि सभी अधिकारियों को कहा गया है कि वो अपने अपने विभागों की सही जानकारी दें वो भी लिखित तौर पर ताकि महायोजना में उनको शामिल किया जा सके। वहीं भवाली पालिका अध्यक्ष ने कहा कि महायोजना में भवाली को भी जोड़ा जा रहा है तो भवाली में पानी के साथ सीवर लाइन और तालाबों का निर्माण हो और छोटी पार्किंग को भी निर्माण किया जाए पालिका अध्यक्ष संजय बर्मा ने कहा कि भवाली पर्यटन स्थल का मुख्य स्टेशन है यहां एयर फोर्स स्टेशन के साथ सेनिटोरियम उजाला का बड़ा संस्थान है इस लिये यहां लोगों को मूलभूत सुविधाएं मिले ताकि लोगों को दिक्कतों का सामना ना करना पड़े।

ये है प्लान

इस दौरान दीपक रावत ने कहा कि वर्ष 2011 में नैनीताल-भीमताल महायोजना (मास्टर प्लान) की अवधि समाप्त हो गई थी जिस सम्बंध में अब वर्ष 2041 तक के लिए नई नैनीताल-भीमताल मास्टर प्लान की तैयारी चल रही है। मास्टर प्लान हेतु प्रस्तावित मास्टर प्लान का कुल क्षेत्रफल 66वर्ग किलोमीटर है, जिसमें नैनीताल- भीमताल- भवाली व मुक्तेश्वर तक मुख्यमार्ग से सलंग्न दोनों ओर 220 मीटर तक का क्षेत्र सम्मिलित है। इसका उद्देश्य है कि नियंत्रित एवं नियोजित विकास किया जाए। इस सम्बंध में उन्होंने समस्त विभाग को भविष्य की आवश्यकताओं को देखते हुए अपने सुझाव लिखित रूप में देने को कहा। इससे भविष्य में विभाग की भूमि सम्बंधी आवश्यकता को वर्तमान में ही आरक्षित कर लिए जाएगा जिससे आवश्यकतानुरूप परिसम्पत्तियों व सुविधाओं का निर्माण किया जा सके। नैनीताल-भीमताल पुनरक्षित महायोजना 2041 तैयार कर रही कार्यदायी संस्था मैसर्स क्रिएटिव सर्कल, नागपुर द्वारा नैनीताल में पार्किंग की समस्या के निस्तारण हेतु पार्किंग निर्माण के लिए भूमि को चिन्हित करने के निर्देश मण्डलायुक्त ने दिए। मण्डलायुक्त ने कहा कि 2041 को जनसंख्या के अनुरूप पार्किंग आवश्कताओं का विस्तार किया जाना है। इसके लिए संस्था पीक सीजन व एक दिन में अधिकतम आने वाले पर्यटक की संख्या का विस्तार से अध्ययन कर आख्या दे। उन्होंने कहा कि नियोजक का कार्य है कि योजना आवश्यकताओं व वर्तमान समस्याओं को ध्यान में रखते हुए तैयार की जाय, जिससे भविष्य में किसी प्रकार की समस्या न हो।
इस अवसर पर जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट, जगदीश चंद्र, सीएमओ डॉ भागीरथी जोशी, संयुक्त मजिस्ट्रेट प्रतीक जैन, सचिव जिला विकास प्राधिकरण पंकज उपाध्याय, सहयुक्त नियोजक हरि शंकर बिष्ट, मैसर्स क्रिएटिव सर्कल से टीम लीडर मंजूषा, आदित्य सिंह, आयुष गोविल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।