नैनीताल शेरवुड स्कूल के प्रधानाचार्य अमनदीप संधू को 2 साल की सजा…..बच्चे की मौत के मामले में माना कोर्ट ने दोषी….अमनदीप संधू.रवि कुमार, पायल पॉल पर 50-50 हजार का जुर्माना भी.

1582

नैनीताल – नैनीताल शेरवुड़ स्कूल के प्रधानाचार्य अमनदीप संधू और कालेज के कर्मचारी रवि कुमार व सिस्टर पायल पाँल को नैनीताल सीजेएम कोर्ट ने 2 साल की सजा सुनवाई है और तीनों दोषियों पर 50-50 हजार का जुर्माना लगाया है। हांलाकि सजा तीन साल से कम होने पर कोर्ट ने उसी वक्त तीनों दोषियों को जमानत दे दी है।

ये था मामला….

आपको बता दें की सिने अभिनेता अमिताभ बच्चन समेत कई बड़ी हस्तियों के स्कूल के प्रधानाचार्य को नेपाल के बच्चे की मौत के मामले में सजा सुनाई गई है। इस केस के पैरवी कर रहे मुख्य वकील हरीश पाण्डे के जूनियर शंकर चौहान ने बताया कि 2014 में नेपाल के छात्र शान प्रजापति की स्कूल में तबियत खराब हो गई थी..नैनीताल में किसी अस्पताल और डाक्टर को दिखाने के बजाए स्कूल प्रबंधन ने बच्चे को दो दिनों तक बीमारी की हालत में स्कूल में ही रखा और दो दिन बाद हल्द्वानी बाम्बे अस्पताल में भर्ती किया तो उन्हौने हायर सेंटर भेज दिया। इस दौरान बच्चे की मौत हायर सेंटर पहुँचने से पहले ही हो गई। इस मामले में मृतक छात्र की माँ ने एफ.आई.आर दर्ज की जिसके बाद पूरे मामले की जांच हुई तो प्रधानाचार्य अमनदीप संघू वार्ड़न रवि कुमार ,सिस्टर पायल पॉल दोषी पाए गये..आज दोषियों को कोर्ट में सजा सुनाई गई जिसके बाद दोषी प्रधानाचार्य समेत अन्य को 2 -2 साल की सजा सुनवाई गई है। जिला अदालत के वकील व इस केस में मृतक छात्र को न्याय दिलाने में जुटे हरीश चन्द्र पाण्डे ने कहा कि कोर्ट ने देर से ही भले लेकिन न्याय किया है 2014 के बाद अब 2022 में तीनों को 2-2 साल की सजा हुई है और कोर्ट ने माना की स्कूल प्रबंधन और इन तीनों की लापरवाही के चलते बच्चे की मौत हुई है। हरीश चन्द्र पाण्डे ने कहा कि अगर तीन साल से सजा कम होती है तो उसमें न्यायालय जमानत दे देता है और 1 महीने का समय दोषियों के पास उपरी अदालत यानि जिला कोर्ट में इस फैसले को चुनौती देने के लिये है। जिसमें भी उनके द्वारा विरोध किया जा रहा है। हालांकि इस मामले में कोर्ट रूम से लौट रहे प्रधानाचार्य अमनदीप संधू ने कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया है…