राजभाषा को लागू करने के लिए नैनीताल पहुंची संसदीय समिति…100 प्रतिशत हिंदी का लक्ष्य

34

रिपोर्टर – तनुजा बंगारी बिष्ट

नैनीताल –  नैनीताल राजभाषा समिति की बैठक नैनीताल में चल रही है बैठक में जानकारी ली जा रही है की जो कार्यालय हैं उनमें कितनी राजभाषा हिंदी का प्रयोग हो रहा है..तीन दिनों तक चलने वाले इस बैठक के दौरान प्रशासनिक भाषा को 100 प्रतिशत हिंदी करने पर जोर दिया जायेगा। नैनीताल आए राज भाषा समिति के चेयरमैन ने कहा कि पूरे देश में हिंदी के साथ स्थानीय बोली भाषाओं को भी बढाया जा रहा है जिसमें उत्तराखण्ड के कुमाऊँनी गढवाली और जौनसारी है..वहीं अन्य राज्यों में पंजाबी समेत अन्य को भी स्थान दिया गया है। राज भाषा संसदीय समिति की अध्यक्ष राम चंद्र ने कहा कि मोदी सरकार बेहतर काम कर रही है और शिक्षा नीति मे बदलाव कर मेक इन इंडिया का संदेश दे रही है..राम चंद्र ने कहा कि सरकारी कार्यालयों और अन्य संस्थानों से अंग्रेजीयत का फोविया खत्म किया जायेगा। मीडिया से बातचीत के दौरान संसदीय राजभाषा समिति के चेयरमैन राम चन्द्र ने कहा कि सरकार का संकल्प है कि स्थानीय मात्रभाषा को बढाया जायेगा.और अंग्रेजियत का फोबिया खत्म होगा..कोर्ट में भी हिंदी को लेकर प्रयास शुरु कर दिये हैं साथ ही ग्रह और रज्ञा मंत्रालय में प्रशासनिक उपयोग की भाषा 100 प्रतिशत हिंदी हो गई है।

राजभाषा समिति के अध्यक्ष का कांग्रेस पर निशाना

राजभाषा समिति के चेयरमैन राम चन्द्र जंघड़ा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार में कलर्क पैदा हुए थे और मोदी सरकार में कामगार पैदा होंगे..रामचंद्र ने कहा कि भारत में स्नातक रोजगार का 4 प्रतिशत है जब्कि अमेरिका में 40 और साउथ कोरिया में 96 प्रतिशत लोग रोजगार अपना रहे हैं। राम चन्द्र ने कहा कि शिक्षा नीति के चलते भी देश में बेरोजगारी बढी थी अब मोदी सरकार ने शिक्षा नीति मे बदलाव किया है। वहीं मोदी सरकार के काम काजों की तारिफ करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार अमृत सरोवर महोत्सव गांव में चला रही है गलत नीतियों के चलते जो तालाब खत्म हो गये थे उन पर काम किया जा रहा है मिशन स्वच्छ तालाब शुरु किया जा रहा है और हरियाणां में तो पोंड़ अथाँरिटी शुरु किया गया है।