कल का खाया ही याद नही..उत्तराखंड में शासनादेश को धता बनाकर अधिकारियों ने कर दिए 18 स्कूलों के 45 शिक्षकों के तबादले…

197

उत्तराखंड में शासनादेश के खिलाफ कर दिए गए 18 स्कूलों के 45 शिक्षकों के तबादले…

उत्तराखंड में शासन के उच्चीकृत जूनियर हाईस्कूलों से जूनियर हाईस्कूलों के शिक्षकों को अगले आदेश तक नहीं हटाने के आदेश के बावजूद नैनीताल जिले में 18 स्कूलों के 45 शिक्षकों के तबादले कर दिए गए।

जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ ने की तबादले रद्द करने की माँग…

जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष रघुवीर सिंह पुंडीर के मुताबिक नैनीताल जिले में विषय समायोजन के नाम पर उच्चीकृत विद्यालयों से जूनियर हाईस्कूलों के शिक्षकों के तबादले किए गए हैं।रघुवीर सिंह पुंडीर ने बताया कि नौदा कोटाबाग, स्यात, कमोला, धापूला, अनिया, जाडापानी धारी, मेहरागांव भीमताल, जलालगांव, करनुपर रामनगर आदि विभिन्न स्कूलों से शिक्षकों के तबादले किए गए हैं।

बड़ा सवाल आखिर शासनादेश की अवहेलना क्यों…

आपको बता दें कि तीन जुलाई 2019 को शासन की ओर से आदेश जारी किया गया था कि उच्चीकृत जूनियर हाईस्कूलों में कार्यरत शिक्षकों को अगले आदेश तक न हटाया जाए।फिर कैसे उन शिक्षकों को स्थानांतरित कर दिया गया..?

बेसिक शिक्षा निदेशक मामले से अनभिज्ञ पर मुख्य शिक्षा अधिकारी नैनीताल कुंवर सिंह रावत ने दिया शीघ्र स्थानांतरण रद्द करने का आदेश…

बेसिक शिक्षा निदेशक वंदना गर्ब्याल ने मामले में अनभिज्ञता जाहिर करते हुए कहा कि उक्त प्रकरण की जाँच करवाई जाएगी।अगर संबंध में कुछ गलत हुआ है तो निश्चित ही दोषियों के ख़िलाफ़ कार्यवाही की जाएगी।लेकिन मुख्य शिक्षा अधिकारी नैनीताल कुंवर सिंह रावत ने कहा कि
मुझे इस मामले में शिकायत मिली है।मामले में जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिया गया है कि जिन पर शासन से रोक लगी है उन्हें तुरंत प्रभाव से रद्द कर दिया जाए।