बारिश का कहर, कही बही पर्यटकों की कार तो कोई हुए बेघर

114

देर रात से हो रही बारिश के चलते बरसाती नाले उफान पर है। रामनगर के क्यारी गाँव में बरसाती नाले में पर्यटकों की कार बहने का मामला सामने आया है। कार बहते देख स्थानीय युवाओं ने जान जोखिम में डालकर पर्यटको को कार से सकुशल बाहर निकाला।
बताया जा रहा है क्यारी गाँव में स्थित एक रिज़ॉर्ट में दिल्ली से आए पर्यटक ठहरे हुए थे। सुबह दिल्ली निवासी अपने मित्र के साथ कार से रामनगर गए थे। वापसी में पर्यटकों को नाले के तेज़ बहाव का अंदाज़ा नहीं हो सका। उन्होंने अपनी कार नाले को पार करने के चक्कर में उतार दी। कार जैसे ही तेज़ बहाव की ज़द में आयी वह कागज़ की नाव की तरह बहने लगी। पर्यटकों की चीख पुकार सुनकर ग्रामीण पहुँच गये। ग्रामीणों के द्वारा पर्यटकों को कार से बाहर सकुशल निकाल लिया। चम्बल बरसाती नाले का बहाव इतना तेज़ था कि कार बहते-बहते खिचड़ी नदी में पहुच गयी। गनीमत रही कि एक बहुत बड़ा हादसा होने से बच गया।
इधर जिले नैनीताल में पिछले 10 घन्टे लगातार हुई बारिश के चलते नैनीताल हल्द्वानी मार्ग में हनुमानगढ़ी के समीप जिला मुख्यालय से करीब 2 किमी दूर हनुमानगढ़ी के समीप रात भर से हो रही बारिश के चलते सुबह करीब 12 बजे भूस्खलन से भारी मात्रा में मलबा आने से बाधित हो गया, मोटरमार्ग मे भारी मलुवे के कारण दोनों ओर रोडवेज की बसों के साथ ही दर्जनों वाहन फंस गए। सूचना पर मौके पर पहुची तल्लीताल पुलिस 1 घन्टे कड़ी की मसक्कत के बाद छोटे वाहनों के लिए खोल दिया जबकि बड़े वाहनों के लिए सड़क खोलने के लिए जेसीबी को मंगाया गया है। बड़े वाहनों के यात्री पैदल ही सामान लादकर नैनीताल आना पड़ रहा है।
इधर लगातार हो रही बारिश से देर रात ओखलकाडा मल्ला मे गोपालराम, चन्द्रप्रकाश आर्या, बालम तीनो भाईयो का मकान भरभराकर गिर। इधर तीनों परिवार बेघर हो गए हैं। ग्रामीणों ने प्रशासन ने उचित कार्यवाही करने की मांग की है। बताया जा रहा है कि इन परिवारों के पास मकान बनाने के लिए भूमि भी नही रही। ग्रामीणों ने आवास के लिए भूमि उपलब्ध कराने की भी मांग उठाई है।