लो.. सीएम साहब यहां भी खेला हो गया….कम्पनी ले रही 50 हजार प्रतिव्यक्ति,और सरकार को मिल रहे केवल 8 हजार…

441

 

नैनीताल – हिंदू धर्म की पवित्र यात्रा छोटा कैलाश व ओम पर्वत को गुपचुप तरिके से निजी कम्पनी को देने पर सवाल उठे हैं। कुमाऊँ मण्डल विकास निगम द्वारा निजी कम्पनी को यात्रा की बुकिंग का टेंडर देने के मामले में हाईकोर्ट ने सरकार सचिव टूरिज्म केएमवीएन के साथ जीएम और एमडी को नोटिस जारी किया है..हाईकोर्ट ने इन सभी पक्षकारों को 2 हफ्तों के भीतर जवाब दाखिल करने को कहा है। पूछा है कि किसी नियमों के तहत यात्रा का टेंड़र दिया गया है।

ऐसे हुए खेला…..8 साल के लिये निजी कम्पनी को सौंप दी यात्रा..

दरअसल कुमाऊं मण्डल विकास निगम ने 8 सालों के लिये 15 मार्च 2022 डिवाइन मंत्रा प्रा0 ली0 को यात्रा संचालन का ठेका दे दिया..इसके तहत इस कम्पनी को आदी कैलाश और ओम पर्वत यात्रियों को भेजने की अनुमति टूर आँपरेटर को दे दी गई लेकिन इस दौरान सभी सुविधाएं यानि रहने से लेकर खाने तक की व्यवस्था कुमाऊँ मण्डल विकास निगम को करनी होगी। यात्रा के लिये टूर आपरेटर बुकिंग के लिये कुमाऊँ मण्डल विकास निगम का लोगो भी इस्तेमाल कर सकेगा। गुपचुप तरिके से दिये इस टेंड़र को एनटीपी टूरिज्म अफेयर्स प्राइवेट लिमिटेड ने हाईकोर्ट में चुनौती देते हुए कहा है कि बिना किसी टेंड़र या विज्ञापन के उत्तराखण्ड अधिप्राप्ति नियामावली 2017 का उलंघन करते हुए ये टेंड़र गुपचुप तरिके से कम दामों में दिया गया है।

डिवाइन मंत्रा कंपनी से ही बुकिंग कराने को किया जा रहा यात्रियों को बाध्य…

याचिका में कहा गया है इस गुपचुप अनुबंध के द्वारा कम्पनी को लाभ पहुंचाया जा रहा है और सरकारी खजाने नुकसान दिया जा रहा है। याचिका में कहा गया है कि धारचुला से आदि कैलाश,ओम पर्वत के बाद वापस धारचुला की यात्रा में कम्पनी 50 हजार चार्ज कर रही है जब्कि सभी सुविधाएं केएमवीएन से लेने के बाद सरकारी खजाने में मात्र 8600 रुपये ही मिल रहे हैं वहीं काठगोदाम से वापस काठगोदाम की यात्रा में सरकार को 56 हजार के मुकाबले 12400 ही मिल रहा है। वहीं आरोप है कि केएमवीएन ने आम यात्री के लिये बुकिंग को बंद कर दिया है और डिवाइन मंत्रा से ही बुकिंग कराने का बाध्य किया जा रहा है। याचिका में 15 मार्च के अनुबंध को निरस्त करने की मांग के साथ दोबारा टेंड़र के जरिये यात्रा के संचालन की मांग की है।