देश में स्वदेशी विकसित तकनीकी से हुआ 5G नेटवर्क का सफल परीक्षण…

75

भारत में स्वदेशी 5G नेटवर्क विकसित..हुआ सफल परीक्षण,इसी वर्ष के अंत तक होगा भारत का सम्पूर्ण अपना 5जी ढांचा तैयार

 

देश में पहली बार 5G नेटवर्क का सफल परीक्षण किया गया है। आई.आई.टी मद्रास में ये परीक्षण किया गया है।इसे देश के लिए बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है।सबसे बड़ी बात यह है कि इस नेटवर्क का पूरा डिज़ाइन भारत में ही विकसित किया गया है।

केंद्रीय सूचना प्रोद्योगिकी और संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने सोशल मीडिया पर खुशी ज़ाहिर कर दी देश को जानकारी…

केंद्रीय सूचना प्रोद्योगिकी और संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने सोशल मीडिया ट्विटर पर इसकी जानकारी दी।उन्होंने ट्विटर और कू एप पर इसे लेकर ख़ुशी ज़ाहिर की।
इतना ही नहीं, केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव ने 5G नेटवर्क पर वीडियो कॉल भी की।

देश के किन-किन संस्थानों ने मिलकर विकसित किया इस तकनीकी को…

आपको बता दें कि इस नेटवर्क को विकसित करने के लिए कुल 8 इंस्टीट्यूट ने मिलकर काम किया है।जबकि इसे आई.आई.टी मद्रास के नेतृत्व में विकसित किया गया है।इस बड़े प्रोजेक्ट में आई.आई.टी दिल्ली, आई.आई.टी मुम्बई, आई.आई.टी हैदराबाद, आई.आई.टी कानपुर, सोसाइटी फॉर एप्लाइड माइक्रोवेव इलेक्ट्रानिक्स इंजीनियरिंग एंड रिसर्च, सेंटर आफ एक्सीलेंस इन वायरलेस टेक्नोलाजी और आई.आई.एस.सी बैंगलोर शामिल रहे।

पिछले ही दिनों में केंद्र सरकार ने जानकारी दी थी कि इस प्रोजेक्ट पर काम करने के लिए 220 करोड़ रुपए से अधिक की लागत आई है।इस साल के अंत तक 5G टेक्नोलॉजी को तैयार कर लिया जाएगा। अश्विनी वैष्णव ने कहा था कि इसी वर्ष सितंबर-अक्टूबर 2022 तक भारत का अपना 5जी ढांचा तैयार हो जाएगा। जो कि अभी अग्रिम चरण में है।भारत का स्वदेशी दूरसंचार ढांचा बड़ी आधारभूत प्रौद्योगिकी प्रगति की ओर इशारा करता है।